X Close
X

बेतिया: पुरुष नसबन्दी में पश्चिम चंपारण जिला सबसे ऊपरी पायदान पर – राजेश कुमार !!


img-20180912-wa00521516820309
Patna::- प0 चम्पारण@सतेंद्र पाठक की रिपोर्ट बेतिया। पुरुष नसबंदी एक छोटी सी प्रक्रिया है। जो बहुत सुरक्षित, आसान एवं प्रभावी होती है। इस प्रक्रिया में पुरुष के अंडकोष थैली में एक या दो छोटे छेद किए जाते हैं और दोनों ओर की शुक्राणु ले जाने वाली नलिकाओं को बंद कर दिया जाता है। जिसे संभोग के समय पुरुष का लिंग उत्तेजित अवस्था प्राप्त करता है एवं वीर्य निकलता है परंतु वीर्य में शुक्राणु नहीं होने के कारण स्त्री को गर्भ नहीं ठहरता है। यह गर्भनिरोध का स्थाई साधन है, बिना चीरे, बिना टांके, के की जाने वाली पुरुष नसबंदी को शल्यहीन नसबंदी या एनएसवी कहा जाता है। उक्त बातें डीसीएम (आशा) जिला सामुदायिक उत्प्रेरक राजेश कुमार ने बताया। उन्होंने आगे बताया कि सरकार द्वारा परिवार कल्याण कार्यक्रम के अंतर्गत होने वाले पुरुष नसबन्दी में पश्चिम चंपारण जिला अवल रहा हैं। प0 चम्पारण जिला में अप्रैल से अगस्त 2018 तक कुल 471 पुरुष का नस बन्दी किया गया है। इस कार्यक्रम के दौरान जिन पुरुषों का नसबन्दी किया गया उन्हें 3 हजार नगद एवं साथ मे उपहार के तौर पर सीलिंग पंखा भी दिया गया। यह कार्य एक चुनौती के समान है, जिसमे 700 पुरुषों को समझाने पर कही जा के एक पुरुष अपना सोच बदलते हुए अपना नसबन्दी कराने के लिए तैयार होते है। इसके बाद भी कठिन परिश्रम करते हुए पूरे भारत मे पश्चिम चंपारण जिला के टीम द्वारा देश मे जिले को पुरुष नसबन्दी में सबसे ऊपर लेकर गए हैं। पूरे भारत मे 13593 पुरुष ने अपना नसबन्दी कराया, जिसमे बिहार में 1707 पुरूष अपना नसबन्दी कराया, महाराष्ट्र में 1694 पुरुष नसबन्दी कराए वही उत्तरप्रदेश में 1171 पुरुष नसबन्दी कराया है। जिसमे बिहार के पश्चिम चम्पारण जिला यहा के आशा की सहयोग से देश मे अवल रही। साथ ही गर्भवती टेस्टिंग किट में वेस्ट बंगाल में 758878 संख्या रहा, उत्तर प्रदेश में 721851 संख्या रहा वही एमपी में 466101 संख्या रहा है। पी0पी0आई0यू0सी0डी0 में पूरे भारत 789858 संख्या रहा। जिसमे वेस्ट बंगाल में 148034 संख्या रहा, उत्तर प्रदेश में 118733 संख्या रहा व मध्यप्रदेश में 79325 संख्या रहा है। इंजेक्टेबल( पहला खुराक) में बिहार में 69893 संख्या रहा, वेस्ट बंगाल में 28586 संख्या रहा व उत्तर प्रदेश में 20255 संख्या संख्या रहा है। पी0ए0आई0यू0सी0डी0 में भारत 31135 संख्या रहा हैं, जिसमे वेस्ट बंगाल में 5300 संख्या रहा, महाराष्ट्र में 3142 संख्या रहा व उत्तर प्रदेश में 2986 संख्या रहा हैं। आई0यू0सी0डी0 में उत्तर प्रदेश का 217016 संख्या रहा, गुजरात मे 179006 संख्या रहा व वेस्ट बंगाल में 126498 संख्या रहा हैं। वही स्ट्राइलेजेशन में पुरुष-महिलाओ की पूरे भारत मे 896821 रहा हैं। जिसमे महाराष्ट्र में 137169 संख्या रहा, कर्नाटक में 113617 संख्या रहा व तमिलानाडु में 80251 रहा हैं। इस सभी आकड़ो में भारत मे पुरुष नसबन्दी में बिहार आगे हैं। वही बिहार में भी पश्चिम चंपारण जिला सबसे आगे हैं। जिसमे जिले के टीम व आशा की सहयोग से पश्चिम चंपारण जिला देश मे सबसे ऊपरी पायदान पर हैं। साथ ही डीसीएम(आशा) जिला सामुदायिक उत्प्रेरक राजेश कुमार ने बताया कि सभी को सोच बदलने की जरूरत हैं। पुरुष नसबन्दी से पुरुष में यौन संबन्धी कोई प्रभाव नही पड़ता हैं, मात्रा पुरूष नसबन्दी से महिलाओं से संबन्ध बनाने से गर्भ नही ठहरता हैं। The post बेतिया: पुरुष नसबन्दी में पश्चिम चंपारण जिला सबसे ऊपरी पायदान पर – राजेश कुमार !! appeared first on प्रत्येक न्यूज़.
Pratyek Magazine